Happy Birthday {05/18}

Photo by Hiu1ebfu Hou00e0ng on Pexels.com

If the matter were about physical love, then she would have forgotten you a long time ago. Her soul was killed in front of you in the daylight. But no one could kill her conscience yet. Yes, it is still alive, which continues to revolve around your dead soul. Sometimes she thinks that she has the power of love, which can revive your dead conscience and soul. But people say that she is not aware that “The person can make the dead person alive, but it is impossible to awaken the dead soul. Only the almighty can wake up somebody’s soul who is very busy taking care of great deals presently.”
Her problems are minor. She spends time searching for the truth. People say that if she had remembered God with this hard work and love, then by now, God would have come to her. But she says with a smile, “I do not want God; I just want the man of God whom I love.”

Today, she writes to him on the occasion of his birthday.
It has been almost two years now, but it feels like over two centuries. She neither forgot you, nor her love diminishes for you. In the past two years, she has learned how to hide her pain and tears behind false smiles, senses of humor, and words. Don’t you think she has not attempted to forget you? She has tried her best to forget you, but how would someone end this relationship if God created this relationship? Is there something, or does Almighty want something else?
It may also be that the matter is of two souls whose relationship had been written by the almighty in heaven. Someone has rightly said that certain relationships are made in heaven; no one can break them. So how can anyone else break this relationship? The physical relationship cannot survive without each other for long-distance, but the relationship of souls still stays alive after people die.

It is an era of darkness where people who speak the truth are called lunatics. However, to date, nobody understands what the person should call if he or she ran away after facing the truth. Everybody is busy pleasing others. Everybody loves saluting the rising star. But some soul lovers try to find the lost soul in dead bodies.
Today on your birthday, she remembers every moment she spent with you, each word you had shared with her. She loves smiling looking at those thousands of pictures of passion and love. Do you remember those moments and words you told her just two hours before cutting all connections? If not, you must remember because she lives on those words now. Remember the location: Highway East 91 exist country road 46. As for her habit, she asked you, “Bubby, if someone separates us, what would I do.”
Your words were, “Munna, have faith in me. Some can separate us physically but not our souls. We may not be able to see each other physically, but our souls will always be connected.”

She is still waiting for you today even though years have passed. She sits in the hope that Almighty will bless you with courage one day. Your conscience will be alive again. You will have the courage to show those fake and selfish people the real you. But it takes courage to do something. To do so, the person needs both courage and conscience.
Even today, she still stands on the same road where you left her. She tried to cross that line alone but came back from the middle. She often looks around with her weeping soul and eyes that perhaps a godman could help her cross the line. No, she did not succeed at all. Neither you nor Abu nor anyone else was able to help her. How could someone else help her when she could not help herself? So she goes back to the same place again after being afraid.
You are also a part of that dead soul. Remember, one time you said, “Munna, you will not be able to live without me.” You were absolutely right on that. No, she is alive physically. Her conscience is still alive. But her spirit died without you. What was your duty for that woman? You knew that she would not be able to live without you. Had you done something to save her life? Why did you leave her alone to die alive? Don’t you think that you let others slaughter her soul?

Do not be surprised if she passes in front of you, and you do not know about it. You can no longer recognize her. You loved her scent, and it is still the same. It is you who have forgotten it too. Her pain has not ended, but the passing moments have taught her to be in pain. Now she does not cry out loudly, but it happens only when someone mentions you, then her heart, eyes, and soul cry together. Whose voice reaches neither you nor anyone else, but it is said that it definitely knocks at the door of the almighty.
Everyone tells her that she should forget you and your unfaithful love. But, she says, “it’s good or bad, but it’s still mine.”

If you did not appreciate the love of that crazy woman, then why had you taken a step along with her? If you have taken the step, then why have you not dared to follow along? If you did not want to appreciate his love, at least you would not have insulted Abu. He would have paid the duty of being a real Muslim. Abu, the message of the almighty, had worshiped and respected the little girl. She has given you more love and respect than Abu. Do you remember the conversation when you were traveling along with her to Gulmarg from Pahalgam? You were driving on a country road. After crossing Anantnag, there were fields all around, and a small house was visible. Do you remember what she told you? She said, “If Abu stopped our car now and asked whom would you choose, Munna.” Then she said I would choose my hubby bubby, not Abu.”
Unfortunately, she still remembers her promise. Now you have gone, but she continues to choose you. In an attempt to wake up your soul and conscience, she has killed his own soul. She often told you, “Bubby, If you wear my shoe, you won’t be able to walk two steps.”
She got murdered in front of you, and you kept watching her dying silently. Once she was your honor, later you were the one who auctioned her honor.

If you promise someone, then you should fulfill it. You promised her that you would not let her cry and would give her happiness in every place. You also said, “Munna, try to see this world with your inner eyes.”
First, she had seen you with her eyes, but you defeated badly. Now, what should she do by looking at the world?
Did she forget to tell you what Abu used to say about her? “Khuda has given this girl a very innocent heart but more vicious brains. On top of those two, he has also given her a lot of courage, which is a dangerous combination. If nobody shows her the right direction, she could do the destruction. “
Abu left her behind to you so you can show her the right direction. Now you know how dangerous a combination it was. She invaded the place in 2 months where geniuses could not do it in the past 75 years.
Today, Banny is not staring at the cake. The children are not around to tell her, “Seriously, mom, he is not even here, and you are still celebrating his birthday. Cut the damn cake so we can do something.” But today she has cut your birthday cake alone and told you, “Happy Birthday, My beloved man. God bless you and give you my life and happiness to you.”
But again she bought the carrot cake because it was Banny’s favorite one.

बात अगर जिस्म के प्यार की होती तो वो आप को कब की भूल गई होती। उसकी रूह का दिन की चांदनी में ही कतल हो गया था। पर उसकी जमीर को कोई मार नहीं सका। उसकी जमीर आज भी जिन्दा है जो उसकी मरी हुई रूह को लेकर घूमती रहती है। कभी कभी वो सोचती है कि शायद वो अपने बब्बी की मरी हुई ज़मीर को फिर से जिंदा कर सके। कितनी अन्जान है वो जिस्को यह नहीं पता कि मरा हुआ इंसान तो जिन्दा किया जा सकता है पर मरी हुई ज़मीर को तो इस जहाँ को रचने वाला वली ही अपनी ताकत से जिन्दा कर सकता है। लेकिन उस महान शक्ति के पास तो सारा जहाँ है वो तो एक ना समझ सी और अनाथ सी है। यो अपना समह सच को तलाश करने में ही गुज़ार देती ही। लोग कहते है अगर इसी मेहनत और मुहबत से उसने खुदा को याद किया होता तो अब तक खुदा कब का उसके पास आ जाता।  और वो मुस्करा के कहती है, “मुझे खुदा नहीं उसका बनाया हुआ इन्सान चाहिए जिसको में बेपनाह मुहबत करती हूँ।”आज अपने अज़ीज़ के जन्म पर वो उसको लिखती है। २ वर्ष से उप्पर का समह बतीत हो चूका है। न ही  वोह आप को भुला पाई और न ही उसका प्यार आप के लिया  कम हुआ है। बीते हुए इस समह ने उसको यह सिखा दिया है कि अपने इस दर्द और आंसू को अपने इस झूठी मुस्कराहट और शब्दों के पीछे कैसे छुपा कर रखना है। यह मत सोचना के उसने आप को भूलने का कोशिश नहीं किया है।  हर पल किया है लेकिन यह दोनों का रिश्ता खुदा ने बनाया था या फिर कोई ऐसा इन्सान ही पैदा नहीं हुआ यो आप के प्यार को ख़तम कर सकता हो। कुछ तो ऐसा है या फिर उप्पर वाला कुछ और ही चाहता है। यह भी तो हो सकता है कि बात जिस्म की नहीं दो रूहो की है जिनका का बन्दन स्वर्ग में लिखा गया हो। किसी ने ठीक ही कहा है कि रिश्ते स्वर्ग मैं बनते हैं उनको कोई तोड़ नहीं सकता है। तो फिरआप और कोई कैसे इस रिश्ते को तोड़ सकता है। जिस्म दे रिश्ते दो कोह नहीं चलदे पर रूह दे रिश्ते ता मरन तो बाद भी नहीं ख़तम होते। 
सच्च बोलने वाले को तो पागल कहा जाता है। पर अब तक ये समझ में नहीं आया कि सच्च को सुन कर भागने वाले को क्या कहा जाता है। हर कोई चढ़ते हुए सूर्य को सलाम करते है। पर कुछ उस जैसे भी है यो रूहो के दीवाने है। और वो तो ढलते हुए सूर्य में भी कुछ खुशियां ढूंढ़ने की कोशिश करते है। आज आपके जन्म दिन पर वो आप की कही हुई बातों को याद करती है। आज भी वो आवाज़ और अलफ़ाज़ उसके कानों में गूंजते है। वो लम्हा वी याद है। सुबह के तीन का समह था और फ्रीवे 91 पर वो exit ले रही थी जब उसने आप से पुछा था कि,” बब्बी, अगर किसी ने हम दोनों को अलग कर दिया।” आप के अल्फ़ाज़ थे,” मुन्ना, Have a faith in me. हो सकता है के हम physically ना मिल सके पर अपनी रूह को कभी अलग नहीं कर सकता। मेरी रूह हमेशा ही अपनी मुन्ना को प्यार करती रहेगी। ” 
वर्षों का समह बतीत हो चूका है पर वो आज भी आप का इंतज़ार कर रही हूं। सिर्फ इस उम्मीद से बैठी हुए है  कि एक दिन खुदा आप को साहस देगा। आप की ज़मीर फिर जिंन्दा होगी। और उन बनावटी लोगों को मुँह तोड़ ज़वाब दोगे। पर यह कुछ करने के लिए एक साहस की जररूत होती है। ज़मीर की जररूत होती है और सबसे अधिक एक होंसले की जररूत होती है। आज भी वो उसी चाररस्ते पर खड़ी है यहां कभी आप उसको छोड़ कर गए थे। उसने बहुत वार उस चाररस्ते को एकले पास करने की कोशिश की लेकिन बीच में से ही वापस आ गयी। कई वार उसने अपनी रोती हुई रूह और आँसूओ से भरी आँखों से देखा कि शायद कोई खुदा का बंदा उसकी मदद कर सके। लेकिन वोह कभि कामजाब नहीं हो सकी। ना ही आप और न ही अबू और ना ही कोई और उसकी मदद के ले आया। तो वोह डर कर  उसी जगह पे फिर वापस चली जाती है। आप भी तो मरी हुई उस रूह का एक हिस्सा हो। याद एक वार आप ने कया कहा था ,”मुन्ना, तू मेरे वगैर जिन्दा नहीं रह पाओगी। ” आपने कितना सच बोला था। नहीं,उसका जिस्मानी तोर पर तो वो जिन्दा है। उसकी ज़मीर भी अभी तक जिन्दा है। पर उसकी रूह जिन्दा नहीं रह पाई। उस औरत  के लिए आप का कया फ़र्ज़ था। आप को पता था कि वो आप के बिना जिन्दा नहीं रह पाएगी। आपने उसको जिन्दा बचाने के लिए कुछ किया। आपने उसको जिन्दा मरने के लिए एकेला क्यूँ छोड़ दिया। आप को ऐसा नहीं लगता है कि अपने उसका कतल होने दिया। हैरान मत होना अगर वोह आपके सामने से गुजर जाती है और आप को इस बात का एल्म ही नहीं होता। अब आप उसको पहचान नहीं सकते। उसकी खुशबू आप को बहुत पसंद थी। पर अब ऐसा अहसास होता है। कि आप उसकी सुगंद को भी भूल चुके हो। उसका दर्द तो खतम नहीं हुआ है पर गुज़रे हुए पलों ने उसको दर्द में रहना सिखा दिया है। अब वोह चीके मार कर नहीं रोती /लेकिन ऐसा भी होता है जब आप का जिक्र होता है तोह उसकी दिल, आँखें, और रूह एक साथ रोती है। जिसकी आवाज़ ना तो आप के पास और न ही किसी और के पास पहुँचती है  पर कहते है कि खुदा के दरबार में जरूर दस्तक देती है। सभी उसको कहते है कि वोह आप को भूल जायें कयूंकि आप बेवफा हो और उसका अतीत। पर वोह कहती है,”अच्छा या बुरा पर है तो मेरा अपना। ‘

अगर अपने उस पागल सी औरत की मुहाबत की कदर नहीं करनी थी तो अपने उसके साथ कदम ही कयूं चका था /अगर कदम उठा ही लिया था तो साथ चलने का साहस क्यों नहीं किया है। उसके प्यार की कदर नहीं करनी थी कम से कम अबू की तो कदर कर लेते। एक असली मुस्लाम होने का फ़र्ज़ तो अदा कर देते। वो लड़की खुदा के  मैसेंजर अबू  का ईमान और उसकी इबादत थी। उसने आपको अबू से कहीं अधिक प्यार और सन्मान दिया था।  आप को याद होगा जब आप उसके साथ पहलगाम से गुलमार्ग ले लिया जा रहे थे तो आप कंट्री रोड पर ड्राइव कर रहे थे। अनंतनाग पार करने के बाद चारो तरफ़ खेत थे और दूर एक छोटा सा घर दिखाई दे रहा था। आप को याद है उसने आप को क्या कहा था ,”अगर अबू हमारी कार रोक कर यह पूछे कि मुन्ना आप किस को chose करोगी। तो उसने कहा था मैं अबू को नहीं आप को choose करूंगी। “उसने कहा तो तब पर आपना वादा उसको अभी याद है।  अब आप  तो चले गए हो पर वो अब भी आप को choose कर रही है। उसने आपकी ज़मीर और रूह को जगाते हुए अपनी ही रूह का कतल करवा लिया। वोह अक्सर कहा करती थी,” बब्बी, आप मेरा जूता पहन कर चलो ना। दो कदम नहीं चल पाओगे। “शरेआम उसकी रूह का कतल हो गया और चुपचाप उसको हलाल होते देखते रहे। कभी वो आप की इज़्ज़त थी फिर आप ही ने उसकी इज़्ज़त को शरेआम बाजार में नीलाम कर दिया। 
अगर किसी से वादा करते है तो उसको पूरा भी करते है। आप ने उससे वादा किए था कि रोने नहीं दोगे और उसकी हर जहाँ की खुशी देंगे। आप ने यह भी कहा था की,”मुन्ना, अन्दर की आंखों से इस संसार को देखने की कोशिश करो.” उसने संसार को देख कर क्या करना था। पहले उसने आप को ही देखा और आप बुरी तरह से हारगे। शयद आप को पता नहीं था कि अबू क्या कहा करता था,” खुदा ने इस लड़की को बहुत भोला सा दिल दिए है पर उससे कही अधिक शातिर दिमाग दिए है। और ऊपर से गज़ब का होंसला दिए है। यह खतरनाक combination है. सही डायरेक्शन ना मिला तो क़ियामत कर डालेगी।”अबू तो चला गया उसको आप पर छोड़ कर। कभि सोचा है यह खतरनाक combination  कितना ख़तरनाक होता है। 

One thought on “Happy Birthday {05/18}

Leave a Reply to Sakshi Shreya Cancel reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s